Mathematical General Dictionary in Hindi – Part 1

Hello Friends, In this post we are going to provide a complete list of math vocabulary words and definitions for you. In which you have given a dictionary of all the general words of Math. If you are students and you need basic mathematical terms, then everything is given here in this post Mathematical General Dictionary in Hindi with Definition Part – 1. Below is a list of many common math terms and their definitions.

General words relating to mathematics and geometry

General words relating to mathematics and geometry

A

  • Abacus (एबाकस) -गिनती सिखाने का एक ऐसा यंत्र जिसके तारों में रंगीन लटू लगे होते हैं जो गणना करने में मदद करते हैं।
  • Absolute value (निरपेक्ष मान) -किसी भी वास्तविक संख्या का धनात्मक मूल्य। जैसे- [8] = 8, [-4] = 4 आदि
  • Abstract Number (अव्यवहारिक संख्या) – वह संख्या जिसके साथ इकाई संयुक्त नहीं होती है।
  • Acre ( एकड़) -भूमि मापने की इकाई।
  • Acute angle (न्यून कोण) -वह कोण जिसकी गणना 0° और 90° के बीच की जाती है। जैसे-65°, 40° आदि।
  • Addition (योग) -जब दो या दो से अधिक संख्याओं को जोड़ा जाता है, तो उसे योग कहते हैं।
  • Addition of formulae (सूत्रों का योग) – त्रिकोणमिति से सम्बन्धित सूत्रों के योग और अन्तर को प्रदर्शित किया जाता है।
  • Algebra (बीजगणित) -गणित की वह शाखा जिसमें संख्याओं के साधारण गुणों का अध्ययन किया जाता है अर्थात् अक्षरों को संख्याओं के स्थान पर नियुक्त करके।
  • Angle (कोण) -कोण वह बिन्दु है जो दो रेखाओं अथवा सतहों से निर्मित होता है तथा यह प्रदर्शित करता है कि एक रेखा दूसरी रेखा से कितनी दूर है।
  • Apex (शीर्ष) -यह किसी आकृति के आधार बिन्दु से उच्चतम बिन्दु को दर्शाता है।
  • Arc (चाप) – किसी वृत्त के परिधि का भाग या वक्रक।
  • Area (क्षेत्रफल) – कोई वस्तु सतह पर जितना स्थान घरता ह वह उसका क्षेत्रफल कहलाता है।
  • Axiom (सिद्धान्त) – मूलभूत तथ्यों को जिन्हें बिना प्रमाण सत्य मान लेते हैं, सिद्धान्त कहते हैं।
  • Average (औसत) – संख्याओं का औसत सम्पूर्ण संख्याओं का योगफल करके संख्याओं की संख्या से भाग देकर प्राप्त करते हैं।

B

  • Ballistics (बैलिस्टिक्स) – वस्तु की गति का अध्ययन जो किसी बाहरी बल के कारण आगे बढ़ रही हो।
  • Base (आधार रेखा) – वह रेखा या क्षेत्रफल जिस पर कोई आकृति स्थिर होती है।
  • Baye’s Rule (वॉयस नियम) – वह नियम जो पारिस्थितिक संभावनाओं को व्यक्त करता है।
  • Baye’s Rule (वॉयस नियम) – वह नियम जो पारिस्थितिक संभावनाओं को व्यक्त करता है।
  • Bimodal (द्विमॉडल) – वह स्थिति जिसमें दो मॉडल हों।
  • Binary number (द्विगुण संख्या) – वह संख्या जो आधार 2 पर व्यक्त की जाती है।
  • Bisect (समद्विभाजित) – किसी वस्तु या चीज या रेखा को दो बराबर भागों में बाँटना।
  • Boundary (सीमा) – वह वक्र जो आकृति की बाह्य परिधि को व्यक्त करता है।
  • Bracket (कोष्ठक) – कोष्ठक से सरलीकरण की विधि व्यक्त की जाती है।
  • Butterfly effect (तितली प्रभाव) – यह एक ऐसी पद्धाति है जिसमें न्यून परिवर्तन भी परिणाम पर असम्भावित प्रभाव डालता है।

C

  • Calculation (गणना) – संख्याओं वाले प्रश्नों को हल करने का एक तरीका।
  • Calculus (कालकुलस) – गणित की वह शाखा जो परिवर्तन की दर, वक्र का झुकाव, लम्बाई, क्षेत्रफल और आयतन का ज्ञान कराती है।
  • Cardinal number (समपदी संख्या) – समुच्चय में व्यक्त संख्या को दर्शाने के लिए प्रयोग में लाई गई सम्पूर्ण संख्या को समपदी संख्या कहते हैं। जैसे-A= {2, 4, 6, 8}. इस समुच्चय की सम्पदी संख्या है 4 or n(A)= 4
  • Century (शताब्दी) – इसका अर्थ 100 वर्ष का काल होता है।
  • Chord (जीवा) – वृत्त की परिधि पर स्थित दो बिन्दुओं से निर्मित रेखा-खण्ड। व्यास वृत्त की सबसे बड़ी जीवा होती है।
  • Circle (वृत्त)(i) वृत्त तल में बनी एक बन्द आकृति जो तल में स्थित उन सभी बिन्दुओं से मिलकर बनती है, जो तल में स्थित एक निश्चित बिन्दु से समान दूरी पर होते हैं। (ii) टेढ़ी रेखाओं से बनी वह आकृति जिसका हर बिन्दु एक निश्चित बिन्दु (केन्द्र) से समान दूरी पर हो।
  • Coefficient (गुणांक) – एकपदीय समीकरण का अचल गुणनखण्ड या बीजीय समीकरण के हर पद के आगे लिखी हुई संख्या।
  • Common factor (समगुणनखण्ड) – वह संख्या जो विभिन्न संख्याओं से पूरी तरह विभाजित हो जाता है।
  • Compound interest (चक्रवृद्धि ब्याज) – यह वो ब्याज है जिसकी गणना मूलधन में अर्जित ब्याज जोड़ने से प्राप्त मूलधन पर फिर अर्जित ब्याज जोड़कर की जाती है।
  • Cone (शंकु) – वह आकृति जिसकी सतह गोल हो, एक ही शीर्ष हो या दूसरा सिरा नुकीला हो।
  • Coordinate (निर्देशांक) – वह संख्या जो किसी बिन्दु की स्थिति किसी दूसरे बिन्दु या अक्ष से दूरी के माध्यम से बताए।
  • Cosine (कोसाइन) – इसको ज्ञात करने के लिए दिए गए कोण के साथ की भुजा की लम्बाई को कर्ण की लम्बाई से विभाजित किया जाता है।
  • Cube (घन) – किसी घन के 6 पृष्ठ, 12 भुजाएँ व 8 कोण होते हैं। जब कोई संख्या अपने से ही तीन बार गुणा होती हो तब उसे उस संख्या का घन कहते हैं।
  • Curve (वक्र) – वह रेखा जिसमें झुकाव होता है।
  • Cycloid (चक्रज) – वह वक्र जो वृत्त की परिधि पर बने किसी भी बिन्दु के द्वारा बनाया गया हो और जिसका झुकाव किसी सीधी रेखा की मदद से न बनाया गया हो।
  • Cylinder (बेलन) – बेलन दो गोलाकार आधारों पर घिरी हुई एक आकृति है जो पृष्ठीय तलों से युक्त हो।
  • Decimal (दशमलव) – जब भिन्न को ऐसे लिखा जाए कि उसका हर अंश दस की घात में हो।
  • Density (घनत्व) – मैट्रिक्स में, बिना शून्य वाला भाग।
  • Determinant (सारणिक) – कुछ पंक्तियों तथा उनके ही स्तम्भों के रूप में किसी निश्चित ढंग से क्रमबद्ध संख्याओं के विन्यास को जिनको एक निश्चित सारणिक कहते हैं।
  • Diameter (व्यास) – वृत्त की वह जीवा या रेखा जो वृत्त के केन्द्र से होकर गुजरती है। केन्द्र इस रेखा का मध्य बिन्दु भी होता है।

D

  • Difference (अन्तर) – यह वो नतीजा है जो दो संख्याओं को आपस में घटाने से प्राप्त होता है। i.e.,a-b दो संख्याओं के वर्गों का अंतर भी एक सूत्र के द्वारा ज्ञात किया जा सकता है।
  • Digit root (अंकमूल) – वह अंक जो किसी संख्या के अंकों का योग करके बनता है।
  • Discount (बट्टा) -अंकित मूल्य और विक्रय मूल्य का अन्तर।
    Discrete data (डिस्क्रीट डाटा) -वह डाटा जिसमें केवल पूर्णांक और भिन्न वाले मूल्य हों।
  • Dividend ( भाज्य) -वह संख्या जिसको विभाजित करना हो। जैसे 105, यहाँ 10 भाज्य है।
  • Dynamics (गतिज विज्ञान) -गणित की वह शाखा जिसमें किसी वस्तु के तल के द्वारा उत्पन्न गति का अध्ययन किया जाए।

E

  • E (इ) -वह प्रतीक जिसका आधार प्राकृतिक लघुगुणक हो।
    Eccentric (उत्केन्द्र) – यह उन कटे हुए वृत्त और गोले की तरफ संकेत करता है जिनका केन्द्र समान न हो।
  • Edge (किनारा) -वह रेखा जो बहुभुज को जोड़ती है या वह रेखा जहाँ दो मुख आपस में मिलते हैं एक त्रिभुजीय आकृति के।
  • Ellipse (दीर्घवृत्त) -दीर्घवृत्त उस बिन्दु का पथ है जिसका दो निश्चित बिन्दुओं से दूरियों का योग नियताँक रहता है।
  • End point (अन्त बिन्दु) -वह बिन्दु जिस पर एक रेखा या एक तिरछी रेखा का अन्त हो।
  • Equation (समीकरण) -दो व्यंजक यदि बराबर (=) चिन्ह से जुड़े हो तब वह समीकरण कहलाती है।
  • Error (भूल/गलती) – वह राशि जिससे एक गलत उत्तर अपने सही उत्तर से भिन्न हो।
  • Exponent (घातांक) -यह वो संख्या है जो यह दर्शाती है कि कोई भी संख्या खुद से कितनी बार गुणा की गई है। जैसे-43 =(4x4x4) = 64

F

  • Face (पृष्ठ) – किसी बहुभुज की चपटी सतह।
  • Factor (गुणक) – वह संख्या जो किसी दूसरी संख्या में पूरी तरह विभाजित हो सके।
  • Factorisation (गुणनखण्ड) – किसी बीजीय व्यंजक का गुणनखण्ड करने की प्रक्रिया। गुणनखण्ड कहलाती है।
  • Finite (परिमित) – अवयवों की सीमित संख्या होना।
  • Formula (सूत्र) – सूत्र में चर होते है जिनको अगर अंकों में बदला जाए तो किसी अनजानी मात्रा को निकाला जा सकता है।
  • Function (फलन) – वास्तविक अथवा अधिकल्पित संख्याओं के समुच्चय से वास्तविक अथवा अधिकल्पित संख्याओं के समुच्चय पर लिया गया प्रतिचित्रण फलन कहलाता हैं।

G

  • Geometric mean (गुणोत्तर माध्य) – दो संख्याओं का गुणोत्तर माध्य उनके गुणनफल के वर्गमूल के बराबर होता है।
  • Geometry (ज्यामिति) – गणित की वह शाखा जिसमें रेखाओं, कोणों, आकृतियों और उनके विशिष्ट गुणों का अध्ययन किया जाता है।
  • Gradient (ढलान की मात्रा) – किसी ग्राफ पर सीधी या तिरछी रेखा का झुकाव।
  • Graph ( आलेखन) – बिन्दुओं और रेखाओं के मिलाने से आलेखन प्राप्त होता है।

H

  • Harmonic Mean (हरात्मक माध्य) – दो संख्याओं के गुणनफल का दुगना जो उनके योगफल ने विभाजित किया हो।
  • Height (ऊँचाई) – आधारीय रेखा या समतल के ऊपर खींचा गये बिन्दु की लम्बवत् दूरी।
  • Hexagon (षटभुज) – छ: भुजाओं से बना बहुभुज जिसके अन्दर के सभी कोणों का योगफल 720° होता है।
  • Hidden lines (छिपी हुई रेखाएँ) – टूटी हुई रेखाएँ उन रेखाओं को दर्शाने के लिए जो चित्र में दिखाई नहीं देती।
  • Hyperbola (अतिपरवलय) – वह शांकव है जिसकी उत्केन्द्रता सदा एक से बड़ी होती है। इसे निम्न समीकरण के द्वारा दर्शाते हैं
  • Hypotenuse (कर्ण) – समकोण त्रिभुज में 90° के सामने की भुजा।

I

  • Image (प्रतिबिम्ब) – किसी निश्चित संख्या को किसी फलन के साथ सरल करने से उस अवयव का प्रतिबिम्ब प्राप्त होता है।
  • Improper fraction (विषम भिन्न) – वह भिन्न जिसका अंश हर से बड़ा हो या उसके बराबर का हो, विषम भिन्न कहलाता है।
  • Increment (वृद्धि) – किसी परिवर्तनीय मूल्य में धनात्मक अथवा ऋणात्मक वृद्धि।
  • In-radius (अन्तः त्रिज्या) – अन्त: केन्द्र और त्रिभुज की किसी भी भुजा के बीच की दूरी को अन्त: त्रिज्या कहते हैं।
  • Interest (ब्याज) – पैसा उधार लेने के लिए दिया गया मूल्य।

J

  • J (जे)(i) कुछ लेखक, ज्यादातर अभियन्ता, संख्याओं को लिखने के लिए ‘J’ का प्रयोग करते हैं |’ के स्थान पर। (ii) y-अक्ष के धनात्मक दिशा में इकाई वेक्टर को दर्शाते हैं।
  • Joint (संधि) – वो रेखाखण्ड जो दो बिन्दुओं को जोड़ता है।

K

  • Kinematics (गतिकी) – गणित की वह शाखा जो वस्तु की विभिन्न गतियों का अध्ययन करती है।
  • Kite (पतंग) – वह चतुर्भुज जिसमें समान भुजाओं के दो जोड़े होते हैं।

L

  • Lateral (पावीय) – किसी ज्यामितीय आकृति में आधार को छोड़कर शेष भाग।
  • Least Common Multiple (LCM) (लघुत्तम समापवर्त्य) – वह छोटी से छोटी संख्या जो सभी व्यंजकों में उभयनिष्ठ हो।
  • Length (लम्बाई) – किसी समतल से खींची गई रेखा जिसे सेन्टीमीटर या यार्ड में नापा जाता है।
  • Line (रेखा) – दोनों दिशाओं में बढ़ाई जाने वाली बिन्दुओं का झुण्ड।
  • Literal equation (शाब्दिक समीकरण) – वह समीकरण जिसमें स्थिरांक को अक्षरों के द्वारा दर्शाते हैं।
  • Loss (हानि) – यदि किसी वस्तु को उसके क्रय मूल्य से कम पर बेचना पड़ता है तो उसे हानि कहते हैं।
  • Lowest Term fraction (न्यूनतम पद का भिन्न) – वह भिन्न जिसको और सरल नहीं बना सकते।
  • Lowest Terms (न्यूनतम पद) – भिन्न तब न्यूनतम पद में होता है जब उसके हर और अंश का कोई समान गुणांक नहीं होता। और -1 को छोड़कर।

M

  • Magic square (तर्क वर्ग) – ऐसा वर्ग जिसमें पंक्ति कॉलम और मुख्य विकर्ण के N संख्याओं का योग नियत रहता है।
  • Mathematics (गणित) – यह आकार, व्यवस्था, मात्रा तथा कई अन्य मूलभूत नियनों का तुलनात्मक तथा तार्किक अध्ययन है। इसे तीन भागों में बांटा गया है- बीजगणित, विश्लेषण, ज्यामिति।
  • Matrix (आव्यूह) – संख्याओं के एक निकाय को पंक्तियों तथा स्तम्भों में आयताकार सारणी के रूप में व्यवस्थित करने को आव्यूह कहते हैं।
  • Maxima (उच्चिष्ठ) – जिस बिन्दु पर वक्र का मान सबसे अधिक हो।
  • Maximum (उच्चतम) – सर्वश्रेष्ट मान वाला।
  • Mean (माध्य) – पदों की संख्या का योग, पदों की संख्या से विभाजित कर देने पर माध्य प्राप्त होता है। इसे ‘X’ से निरूपित किया जाता है।
  • Median (माध्यिका) – त्रिभुज के एक शीर्ष से उसके सम्मुख भुजा के मध्य बिन्दु को मिलाने वाली रेखा माध्यिका कहलाती है।
  • Median (माध्यक) – यदि अपरिष्कृत आकड़ों के मानों को आरोही या अवरोही क्रम में रखा जाए तो इस विन्यास के ठीक बीच के मान को माध्यक कहा जाता है।
  • Mensuration ( मेन्शुरेशन (क्षेत्रमिति) – गणित की वह शाखा जिसके अन्दर ज्यामितीय चित्र की लम्बाई, क्षेत्रफल, आयतन का अध्ययन किया जाता
  • Mixed number (मिश्रित संख्या) – एक पूर्ण संख्या और भिन्न का योग।
  • Mixed surd (मिश्रित करणी) – ऐसी करणी जिसका एक गुणनखंड एक के अतिरिक्त दूसरा कोई अन्य परिमेय संख्या है और दूसरा गुणनखंड कोई अपरिमेय संख्या है।
  • Mode (बहुलक) – किसी बंटन में जिस मान की बारंबारता सबसे अधिक हो।

Also Read….

So friends, if you like this post Mathematical General Dictionary in Hindi with Definition – Part 1 then tell us to do comments and do not forget to share this post with your friends.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Contact Us Frontier Theme