Babar History in Hindi – बाबर जीवन परिचय, इतिहास व निबंध

Babar History (itihaas) Jeevan Parichay Essay in Hindi : Hello Friends, Is post me hum aapko Babar History in Hindi – बाबर जीवन परिचय, इतिहास व निबंध ke bare me is post me batane wale hai jisme hum aapko Babar bharat kab aaya, Babar ka beta kon tha, Family tree of babar in hindi ki detailed information provide karne wale hai. To dosto chaliye suru karte hai Babar History in Hindi.

बाबर जीवन परिचय – Babar ka Jeevan Parichay

जीवन परिचय बिंदु बाबर जीवन परिचय
नाम जहीरुददीन मुहम्मद बाबर
जन्म 24 फरवरी, 1483
जन्म स्थान फरगना, तुर्किस्थान
माता - पिता कुतलुग निगार खानम, उम्र शेख मिर्जा
पत्नी आयशा सुल्तान, बेगा बेगम, गुलरुख बेगम, मासूमा सुल्तान, जैनब सुल्तान, दिलदार
बेटा - बेटी हुमायू, कामरान, अस्करी, हींदाल, अहमद, शाहरुख़, गुलजार बेगम, गुलरंद, गुलबर्ग, गुलबदन
मृत्यु 26 दिसंबर, 1530 आगरा , भारत

Family Tree of Babar in Hindi

Babar History in Hindi - बाबर जीवन परिचय, इतिहास व निबंध

Babar History in Hindi – बाबर का इतिहास व् जानकारी 

  1. जहीरुददीन बाबर का जन्म 24 फरवरी, 1483 में फरगना में हुआ था
  2. बाबर के चार पुत्र थे – हुमायू, कामरान, अस्करी तक हींदाल।
  3. बाबर ने भारत पर पहला आक्रमण 1519 ई यसुफजाइयों के विरुद्ध किया, परन्तु उसका प्रथम महत्त्वपूर्ण आक्रमण 1526 ई. में हुआ।
  4. बाबर भारत में मुगल वंश का संस्थापक था। वह मध्य एशिया स्थित फरगना का शासक था।
  5. बाबर के पिता का नाम उमरशेख मिर्जा तथा माता का नाम कुतलुगनिगार खानम था।
  6. वह अपने पिता की तरफ से तैमूर (तुर्क) का पाँचवाँ तथा माता की तरफ से चंगेज खाँ (मंगोल ) का चौदहवीं वंशज था।
  7. बाजौर एवं मीरा के किले पर (1518-19 ई) बाबर ने सर्वप्रथम तोप एवं बन्दूक का प्रयोग किया था।
  8. बाबर ने पानीपत के प्रथम युद्ध (1526 ई.) में इब्राहिम लोदी को हराकर भारत में मुगल वंश की स्थापना की।
  9. खानवा का युद्ध (1527 ई.) में बाबर ने राणा सांगा को हराया एवं गाजी की उपाधि धारण की।
  10. चन्देरी का युद्ध (1528 ई.) में बाबर ने मेदिनीराय को पराजित किया।
  11. घाघरा का युद्ध (1529 ई.) में बाबर ने अफगान शासक महमूद लोदी को पराजित किया।
  12. बाबर ने तुर्की भाषा में अपनी आत्मकथा तुजुक-ए-बाबरी (बाबरनामा) लिखी।।
  13. बाबर ने पानीपत के प्रथम युद्ध में तोपखाना का प्रयोग किया तथा युद्ध में युद्ध की नई नीति तुलुगमा नीति अपनाई। उस्ताद अली एवं मुस्तफा बाबर के प्रसिद्ध तोपची थे।
  14. बाबर की मृत्यु 1530 ई. में आरामबाग आगरा में हुई। अकबर ने बाबर का मकबरा आगरा से काबुल स्थानान्तरित करवाया।
  15. बाबर अपनी उदारता के कारण कलन्दर नाम से प्रसिद्ध था। बाबर ने मुबड्यान नामक पद्य शैली का विकास किया।

Yeh Bhi Pade…

To dosto kesi lagi aapko yeh post Babar History in Hindi – बाबर जीवन परिचय, इतिहास व निबंध hame commetns kar ke jaroor bataye or is post ko apne dosto ke sath share karna na bhule.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Contact Us Frontier Theme