Kirchhoff’s Laws in Hindi – किरचॉफ का प्रथम व द्वितीय नियम

Hello Friends, Is post me hum aapko Kirchhoff’s Laws in Hindi batane wale hai jisme hum aapko Kirchhoff ke dono niyam ko udaharan sahit samjayege to dosto chaliye suru karte hai Kirchhoff’s Laws in Hindi. 

Kirchhoff’s Laws in Hindi – किरचॉफ के नियम

किरचॉफ ने सन् 1842 में दो नियम दिये जिनकी सहायता से किसी भी जटिल परिपथ का तुल्य प्रतिरोध ( Resistance ), परिपथ के किसी भी भाग में धारा ( Current ) एवं परिपथ के किन्हीं दो बिन्दुओं के बीच विभवान्तर ज्ञात किया जा सकता है। ये नियम ओम के नियम पर आधारित व्यापक नियम हैं।

1. किरचॉफ का प्रथम नियम या सन्धि नियम (First Rule or Junction Rule)

  • किसी वैद्युत परिपथ में किसी भी संन्धि (Junction) पर मिलने वाली धाराओं का बीजीय योग (algebraic sum) शून्य होता है।

गणितीय रूप में इस नियम को इस प्रकार लिखते हैं : ΣI=0

आसान शब्दों में इस नियम को ऐसे समझे।

चिन्ह परिपाटी (sign convention) के अनुसार सन्धि की ओर जाने वाली धारायें धनात्मक एवं सन्धि से दूर जाने वाली धारायें ऋणात्मक ली जाती है।

अर्थात : विद्युत परिपथ में किसी सन्धि की ओर जाने वाली धाराओं का योग, उसी संधि से निकलने वाली धाराओं का योग बराबर होता है।

किसी सन्धि की ओर जाने वाली धाराओं का योग उसी संधि से निकलने वाली धाराओं का योग

निचे चित्र में आपको दिखाया गया है संधि की और जाने वाली धराये और और संधि से निकलने वाली धराये बराबर होती है इस नियम को ही किरचॉफ का प्रथम नियम या सन्धि नियम कहते है।

किरचॉफ का प्रथम नियम या सन्धि नियम

I1, I2 धाराएं संधि की और आ रही है और I3, I4, I5 धाराएं संधि से निकल रही है इसलिए किरचॉफ के नियम से संधि की और आने वाली धाराएं और जाने वाली धाराओं का योग बराबर होता है।

2. द्वितीय नियम या लूप का नियम (Second rule or loop rule)

  • किसी बन्द परिपथ में विभिन्न अवयवों (elements) के टर्मिनलों के बीच विभवान्तरों का बीजीय योग सदैव शून्य होता है।

गणितीय रूप में इस नियम को इस प्रकार लिखते हैं : ∑E = ∑iR

सभी EMF का बीजगणितीय योग = विभिन्न प्रतिरोधकों तथा उन पर लगने वाली धारा के गुणनफलों का बीजगणितीय योग

आसान शब्दों में इस नियम को ऐसे समझे।

“किसी लूप के सभी विभवान्तरों का बीजगणितीय योग शून्य होता है।”

kirchhoffs laws in hindi

इस डायग्राम के अनुसार निम्न समीकरण से इसे समझा जा सकता हैं-

VAB + VBD + VDC + VCA = 0

Yeh Bhi Pade..

To dosto kesi lagi aapko yeh post Kirchhoff’s Laws in Hindi – किरचॉफ का प्रथम व द्वितीय नियम hame comments kar ke jaroor bataye or is post ko apne dosto ke sath share karna na bhule.

Important Notes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Frontier Theme