Paragraph on Holi in Hindi – होली पर छोटा निबंध ( 100 Words )

Hello Friends, Is post me hum Paragraph on Holi in Hindi – होली पर छोटा निबंध batane ja rahe hai jisme aapko essay on holi in hindi in 100 words hi milege jise short note ya short essay bhi kehte hai. holi pe paragraph class 1st standard se 5th tak ke students ke liye provide kiya gya hai to dosto chaliye suru karte hai Paragraph on Holi in Hindi.

 Paragraph on Holi in Hindi – होली पर छोटा निबंध

होली हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। होली का पर्व प्रतिवर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। होली एक ऐसा त्योहार है जो पूरे भारत देश में मनाया जाता है। होली का इंतजार सभी लोग करते हैं। होली रंगो का त्योहार है। होली बसंत का एक उल्लासमय पर्व है। उत्साह से भरा ये त्योहार हमारे लिये एक दूसरे के प्रति स्नेह और निकटता लाती है। इसमें लोग आपस में मिलते है, गले लगते है और एक दूसरे को रंग और अबीर लगाते है। इस दौरान सभी मिलकर ढोलक, हारमोनियम तथा करताल की धुन पर धार्मिक और फाल्गुन गीत गाते है। इस दिन पर हम लोग खासतौर से बने गुजिया, पापड़ हलवा, आदि खाते हैं। रंग की होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है।

Paragraph on Holi in Hindi - होली पर छोटा निबंध

होली को मनाने के पीछे एक इतिहास है। इस पर्व का विशेष धार्मिक, पौराणिक व सामाजिक महत्व है। प्राचीनकाल में हिरण्यकश्यप नामक असुर राजा ने ब्रह्मा के वरदान तथा अपनी शक्ति से मृत्युलोक पर विजय प्राप्त कर ली थी। अभिमानवश वह स्वंय को अजेय समझने लगा। सभी उसके भय के कारण उसे ईश्वर के रूप में पूजते थे परंतु उसका पुत्र प्रह्लाद ईश्वर पर आस्था रखने वाला था।

जब उसकी ईश्वर भक्ति को खंडित करने के सभी प्रयास असफल हो गए तब हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को यह आदेश दिया कि वह प्रहलाद को गोद में लेकर जलती हुई आग की लपटों में बैठ जाए क्योंकि होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था।

हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका से मदद मांगी। होलिका ने अपने भाई की सहायता करने के लिए हाँ कर दिया। उसके बाद होलिका प्रह्लाद को लेकर चिता में बैठ गई परन्तु जिस पर विष्णु की कृपा हो उसे क्या हो सकता है। और प्रहलाद आग में सुरक्षित बचे रहे जबकि होलिका जल कर भस्म हो गई और तभी से होलिका दहन परंपरागत रूप से हर फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है।

इसे बुराई पर अच्छाई की जीत माना गया और होली त्योहार का उदय हुआ। इसिलिए वर्तमान में लोग अब जगह जगह होली के दिन होलिका का दहन करते है होलिका का दहन करने के लिए घास फूस और सूखी लकडियाँ साथ में गोबर की बहुत सारे कंडे इस्तेमाल में लिए जाते है। होलिका दहन से पहले महिलाएँ होली की पूजा करती है। और इसके बाद होलिका दहन कर दिया जाता है।

होली का दूसरा दिन मौज मस्ती का होता है इस दिन सभी लोग एक दूसरे को गुलाल रंग लगाते है और एक दूसरे को रंग बिरंगे रंगों से रंग
देते है।

Yeh Bhi Pade….

To dosto kesi lagi aapko yeh post Paragraph on Holi in Hindi – होली पर छोटा निबंध hame comments kar ke jaroor bataye or is post ko apne dosto ke sath share karna na bhule.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Frontier Theme