Sanskrit Slokas – संस्कृत श्लोक Popular & Best Slokas With Hindi Meaning

Hello Friends, Is post me hum sanskrit slokas ( संस्कृत श्लोक ) with hindi meaning ki list provide kar rahe hai jisme aapko popular sanskrit thoughts with meaning in hindi bhi padne ko milege or is sanskrit slokas ki post ke last me aapko sanskrit slokas PDF bhi provide ki gyi hai jise aap apne phone me download kar ke bhi pad sakte hai.

Pichli Post me hamne aapko Golden Thoughts of Life in Hindi bataye the ise bhi jaroor pade To dosto chaliye suru karte hai.

sanskrit slokas

Sanskrit Slokas 

  • उद्यमेन हि सिध्यन्ति कार्याणि न मनोरथैः।
    न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृगा: ।।

अर्थात: मेहनत से ही कार्य पूरे होते हैं, सिर्फ इच्छा करने से नहीं। जैसे सोये हुए शेर के मुँह में हिरण स्वयं प्रवेश नहीं करता बल्कि शेर को स्वयं ही प्रयास करना पड़ता है।

  • यथा ह्येकेन चक्रेण न रथस्य गतिर्भवेत् !
    एवं परुषकारेण विना दैवं न सिद्ध्यति !!

अर्थात: जिस तरह बिना एक पहिये के रथ नहीं चल सकता ठीक उसी तरह से बिना पुरुषार्थ किये किसी का भाग्य सिद्ध नहीं हो सकता.

  • मानोन्नति- दिशति पापमपाकरोत ।
    सत्संगतिः कथय किं न करोति पुंसाम् ||

अर्थात्: अच्छे मित्रों का साथ बुद्धि की जड़ता को हर लेता है ,वाणी में सत्य का संचार करता है, मान और उन्नति को बढ़ाता है और पाप से मुक्त करता है | चित्त को प्रसन्न करता है और कीर्ति को सभी दिशाओं में फैलाता है |(आप ही ) कहें कि सत्संगतिः मनुष्यों का कौन सा भला नहीं करती |

  • विद्यां ददाति विनयं विनयाद् याति पात्रताम् !
    पात्रत्वात् धनमाप्नोति धनात् धर्मं ततः सुखम् !!

अर्थात: विद्या हमें विनम्रता प्रदान करती है, विनम्रता से योग्यता आती है व योग्यता से हमें धन प्राप्त होता है और इस धन से हम धर्म के कार्य करते है और सुखी रहते है.

  • देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरो रुष्टे न कश्चन:।
    गुरुस्त्राता गुरुस्त्राता गुरुस्त्राता न संशयः।।

अर्थात: भाग्य रूठ जाए तो गुरु रक्षा करता है, गुरु रूठ जाए तो कोई नहीं होता। गुरु ही रक्षक है, गुरु ही रक्षक है, गुरु ही रक्षक है, इसमें कोई संदेह नहीं।

  • स्वगृहे पूज्यते मूर्खः स्वग्रामे पूज्यते प्रभुः।
    स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान्सर्वत्र पूज्यते॥

अर्थात्: मूर्ख की अपने घर पूजा होती है, मुखिया की अपने गाँव में पूजा होती है, राजा की अपने देश में पूजा होती है विद्वान् की सब जगह पूजा होती है.

  • कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
    मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि॥

अर्थात्: आपको अपने निर्धारित कर्तव्य का पालन करने का अधिकार है, लेकिन आप कभी कर्म फल की इच्छा से कर्म मत करो. (कर्म फल देने का अधिकार सिर्फ ईश्वर को है). कर्म फल की अपेक्षा से आप कभी कर्म न करें, न ही आपकी कभी कर्म न करने की प्रवृति हो.

  • अष्टादस पुराणेषु व्यासस्य वचनं द्वयम् ।
    परोपकारः पुण्याय पापाय परपीडनम् ॥

अर्थात्: अट्ठारह पुराणों में व्यास के दो ही वचन हैं “परोपकार ही पुण्य है” और “दूसरों को दुःख देना पाप है”

  • वाणी रसवती यस्य,यस्य श्रमवती क्रिया ।
    लक्ष्मी : दानवती यस्य,सफलं तस्य जीवितं ।।

अर्थात: जिस मनुष्य की वाणी मीठी है, जिसका कार्य परिश्रम से युक्त है, जिसका धन दान करने में प्रयुक्त होता है, उसका जीवन सफल है।

  • प्रियवाक्य प्रदानेन सर्वे तुष्यन्ति जन्तवः ।
    तस्मात तदैव वक्तव्यम वचने का दरिद्रता।।

अर्थात: प्रिय वाक्य बोलने से सभी जीव संतुष्ट हो जाते हैं, अतः प्रिय वचन ही बोलने चाहिएं। ऐसे वचन बोलने में कंजूसी कैसी।

  • सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया: ।
    सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दु:ख भाग्भवेत् ॥

अर्थात: सभी सुखी हों, सभी निरोगी हों, सभी को शुभ दर्शन हों और कोई दु:ख से ग्रसित न हो।

  • हस्तस्य भूषणम दानम, सत्यं कंठस्य भूषणं।
    श्रोतस्य भूषणं शास्त्रम,भूषनै:किं प्रयोजनम।।

अर्थात: हाथ का आभूषण दान है, गले का आभूषण सत्य है, कान की शोभा शास्त्र सुनने से है, अन्य आभूषणों की क्या आवश्यकता है।

  • स्वभावो नोपदेशेन शक्यते कर्तुमन्यथा !
    सुतप्तमपि पानीयं पुनर्गच्छति शीतताम् !!

अर्थात: किसी व्यक्ति को आप चाहे कितनी ही सलाह दे दो किन्तु उसका मूल स्वभाव नहीं बदलता ठीक उसी तरह जैसे ठन्डे पानी को उबालने पर तो वह गर्म हो जाता है लेकिन बाद में वह पुनः ठंडा हो जाता है.

  • येषां न विद्या न तपो न दानं ज्ञानं न शीलं न गुणो न धर्मः !
    ते मर्त्यलोके भुविभारभूता मनुष्यरूपेण मृगाश्चरन्ति !!

अर्थात: जिन लोगो के पास विद्या, तप, दान, शील, गुण और धर्म नहीं होता. ऐसे लोग इस धरती के लिए भार है और मनुष्य के रूप में जानवर बनकर घूमते है.

  • स्वगृहे पूज्यते मूर्खः स्वग्रामे पूज्यते प्रभुः।
    स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान्सर्वत्र पूज्यते॥

अर्थात: मूर्ख की अपने घर पूजा होती है, मुखिया की अपने गाँव में पूजा होती है, राजा की अपने देश में पूजा होती है विद्वान् की सब जगह पूजा होती है|

  • उद्यमेन हि सिध्यन्ति कार्याणि न मनोरथैः !
    न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृगाः !!

अर्थात: दुनिया में कोई भी काम सिर्फ सोचने से पूरा नहीं होता बल्कि कठिन परिश्रम से पूरा होता है. कभी भी सोते हुए शेर के मुँह में हिरण खुद नहीं आता.

  • चन्दनं शीतलं लोके,चन्दनादपि चन्द्रमाः !
    चन्द्रचन्दनयोर्मध्ये शीतला साधुसंगतिः !!

अर्थात: इस दुनिया में चन्दन को सबसे अधिक शीतल माना जाता है पर चन्द्रमा चन्दन से भी शीतल होती है लेकिन एक अच्छे दोस्त चन्द्रमा और चन्दन से शीतल होते है.

  • षड् दोषाः पुरुषेणेह हातव्या भूतिमिच्छता !
    निद्रा तद्रा भयं क्रोधः आलस्यं दीर्घसूत्रता !!

अर्थात: किसी व्यक्ति के बर्बाद होने के 6 लक्षण होते है – नींद, गुस्सा, भय, तन्द्रा, आलस्य और काम को टालने की आदत.

Sanskrit Slokas With Meaning In Hindi PDF

Download: Sanskrit Slokas PDF

Yeh Bhi Pade..

To dosto kese lage aapko yeh Sanskrit Slokas hame comments kar ke jaroor bataye or sanskrit slokas – thoughts ki is post ko apne dosto ke sath share karna na bhule.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Contact Us Frontier Theme