Gati Ke Niyam – न्यूटन के गति के नियम ( Newton’s Law of Motion ) in Hindi

Newton’s Laws of Motion In Hindi: Hello Friends, Aaj ki post me hum Newton ke gati ke niyam ke bare me in hindi jaan ne wale hai jesa ki aapko pata hi hoga gati ke 3 niyam hai jisme gati ke pehla niyam ko जडत्व का नियम – Law of inertia, dusre niyam ko संवेग का नियम – Law of Momentum or last teesre niyam ko  क्रिया – प्रतिक्रिया का नियम Rule of Action and Reaction kehte hai.

Gati ke niyam class 11 ke students ke liye bhut important hai kyoki newton ke gati niyam har baar exams me puche jate hai jisme gati ke niyam ka model, sutra, samikaran, khoj, pratipadan bhut important hai isliye aapko yeh sabhi topics is post me milne wale hai to dosto chaliye suru karte hai.

gati ke niyam

Gati Ke Niyam – Newton’s Law of Motion in Hindi

प्रसिद्ध भौतिक वैज्ञानिक न्यूटन ने 1687 ई में अपनी पुस्तक ‘प्रिन्सिपिया’ में सबसे पहले गति के नियम को प्रतिपादित किया

गति का प्रथम नियम – ( Gati Ka Pehla Niyam ) 

यदि कोई बस्तु विरामावस्था में है तो वह तब तक विराम की अवस्था में ही रहेगी और यदि एक सामान चाल से रेखीय पथ पर चल रही है तो ऐसे ही चलती रहेगी जब तक उस पर कोई बाह्य बल न लगाया जाये न्यूटन के प्रथम नियम को जड़त्व का नियम (Law Of Inertia) भी कहा जाता है !

उदाहरण –

  • रुकी हुई गाड़ी के अचानक चलने पर उसमें बैठे यात्री पीछे की ओर झुक जाते हैं तथा चलती हुई गाड़ी के अचानक रुक जाने पर यात्री आगे की ओर झुक जाते हैं।
  • बंदूक की गोली से शीशे में गोल छेद हो जाता है। जबकि पत्थर मारने पर शीशा टूटकर बिखर जाता है।
  • चलती रेलगाड़ी या बस से छलाँग लगाने पर व्यक्ति आगे की ओर गिरता है।
  • पेड़ को हिलाने से उसके फल टूटकर नीचे गिर जाते हैं।
  • हथौड़े को हत्थे में कसने के लिए हत्थे को जमीन पर मारते हैं।

गति का द्वितीय नियम – ( Gati Ka Doosra Niyam ) 

किसी वस्तु पर कार्य करने वाले बल का मान वस्तु के द्रव्यमान तथा वस्तु में उत्पन्न त्वरण के गुणनफल के समानुपाती होता है। इस नियम को संवेग का नियम – Law of Momentum भी कहते है

उदाहरण –

  • काँच के बर्तन को पैक करने से पहले भूसे अथवा कागज में लपेटा जाता है।
  • क्रिकेट खिलाड़ी गेंद को कैच करते समय अपने हाथों को थोड़ा पीछे कर लेता है।
  • गाड़ियों में शॉकर लगाए जाते हैं।

गति का तृतीय नियम – ( Gati Ka Teesra Niyam ) 

इस नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के बराबर तथा विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है ! इस नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया का नियम भी कहा जाता है इस नियम को क्रिया – प्रतिक्रिया का नियम Rule of Action and Reaction भी कहते है!

उदाहरण –

  • बन्दूक से गोली छोड़ते समय, बन्दूक का पीछे की और हटना।
  • नाव से जमीन पर उतरते समय, नाव का पीछे हटना।
  • कुंए से पानी खींचते समय रस्सी टूट जाने पर व्यक्ति का पीछे की ओर गिर जाना।
  • रॉकेट की गति के दौरान ईंधन गैसें तेजी से नीचे की और निकलती हैं जिसकी प्रतिक्रिया के कारण रॉकेट ऊपर को चलता है।

गति का समीकरण – Gati Ke Samikaran

यदि एक पिंड अपनी गति आरम्भिक वेग u के साथ आरम्भ करता है और t अंतराल में अंतिम वेग v तक पहुँच जाता है, तो गति में अनुमानित समान त्वरण a होता है और तय की गई दूरी s होती है, तो गति का समीकरण है:

  1. v=u +at
  2. s=ut+1/2at2
  3. v2 = u2 +2as

Yeh Bhi Pade…

To dosto kesi lagi aapko yeh post Gati Ke Niyam – न्यूटन के गति के नियम ( Newton’s Law of Motion ) in Hindi comments kar ke jaroor bataye or is post ko apne dosto ke sath share karna na bhule.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Helptak.com © 2019 Contact Us Frontier Theme